हनुमान पचसा लीरिक्स – Hanuman Pachasaa PDF

SHARE THIS POST

What is Hanuman Pachasa? हनुमान पचासा क्या है?

कवि मान और कवि ओकरा के बीच खुद को बेहतर साबित करने की प्रतियोगिता में, कवि मान ने एक काव्य रचा था जिसमें हनुमान जी की प्रतिमा के सम्मुख सुनाई गई थी, और इस काव्य को हम “हनुमान पचासा” के नाम से जानते हैं।

हनुमान पचासा का 50 दिनों तक निरंतर पाठ करने से, व्यक्ति पर हनुमान जी की विशेष कृपा आ सकती है। “हनुमान पचासा” आपको गीता प्रेस गोरखपुर की काव्य कृति हनुमान अंक में प्राप्त होगा, और इसका पाठ करके आप हनुमान जी की आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं।

हनुमान पचसा लीरिक्स – Hanuman Pachasaa Lyrics:

हनुमान पचसा लीरिक्स हिन्दी

जय हनुमान दास रघुपति के।
कृपामहोदधि अथ शुभ गति के।।
आंजनेय अतुलित बलशाली।
महाकाय रविशिष्य सुचाली।।

शुद्ध रहे आचरण निरंतर।
रहे सर्वदा शुचि अभ्यंतर।।
बंधु स्नेह का ह्रास न होवे।
मर्यादा का नाश न होवे।।

बैरी का संत्रास न होवे।
व्यसनों का अभ्यास न होवे।।
मारूतनंदन शंकर अंशी।
बाल ब्रह्मचारी कपि वंशी।।

रामदूत रामेष्ट महाबल।
प्रबल प्रतापी होवे मंगल।।
उदधिक्रमण सिय शोक निवारक।
महावीर नृप ग्रह भयहारक।।

जय अशोक वन के विध्वंशक।
संकट मोचन दु:ख के भंजक।।
जय राक्षस दल के संहारक।
रावण सुत अक्षय के मारक।।

भूत पिशाच न उन्हें सताते।
महावीर की जय जो गाते।।
अशुभ स्वप्न शुभ करनेवाले।
अशकुन के फल हरनेवाले।।

अरिपुर अभय जलानेवाले।
लक्ष्मण प्राण बचानेवाले।
देह निरोग रहे बल आए।
आधि व्याधि मत कभी सताए।
पीडक श्वास समीर नहीं हो।
ज्वर से प्राण अधीर नहीं हो।।

तन या मन में शूल न होवे।
जठरानल प्रतिकूल न होवे।।
रामचंद्र की विजय पताका।
महामल्ल चिरयुव अति बांका।।

लाल लंगोटी वाले की जय।
भक्तों के रखवालों की जय।।
हे हठयोगी धीर मनस्वी।
रामभक्त निष्काम तपस्वी।।

पावन रहे वचन मन काया।
छले नहीं बहुरूपी माया।।
बनूं सदाशय प्रज्ञाशाली।
करो कुभावों से रखवाली।।

कामजयी हो कृपा तुम्हारी।
मां समभाषित हो पर नारी।।
कुमति कदापि निकट मत आए।
क्रोध नहीं प्रतिशोध बढाए।।

बल धन का अभिमान न छाए।
प्रभुता कभी न मद भर पाए।।
मति मेरी विवेक मत छोडे।
ज्ञान भक्ति से नाता जोडे।।

विद्या मान न अहं बढाए।
मन सच्चिदानंद को पाए।।
तन सिंदूर लगानेवाले।
मन सियाराम बसानेवाले।।

उर में वास करे रघुराई।
वाम भाग शोभित सिय माई।।
सिन्धु सहज ही पार किया है।
भक्तों का उद्धार किया है।।

पवनपुत्र ऐसी करूणाकर।
पार करूं मैं भी भवसागर।।
कपि तन में देवत्व मिला है।
देह सहित अमरत्व मिला है।।

रामायण सुन आनेवाले।
रामभजन मिल गानेवाले।।
प्रीति बढे सियाराम कथा से।
भीति न हो त्रयताप व्यथा से।।

राम भक्ति की तुम परिभाषा।
पूर्ण करो मेरी अभिलाषा।।
याद रहे नर देह मिला है।
हरि का दुर्लभ स्नेह मिला है।।

इस तन से प्रभु को पाना है।
पुन: न इस जग में आना है।।
विफल सुयोग न होने पाए।
बीत सुअवसर कहीं न जाए।।

धन्य करूं मैं इस जीवन को।
सदुपयोग करके हर क्षण को।।
मानव तन का लक्ष्य सफल हो।
हरि पद में अनुराग अचल हो।।

धर्म पंथ पर चरण अटल हो।
प्रतिपल मारूति का संबल हो।।
कालजयी सियराम सहायक।
स्नेह विवश वश में रघुनायक।।

सर्व सिद्धि सुत संपत्ति दायक।
सदा सर्वथा पूजन लायक।।
जो जन शरणागत हो जाते।
त्रिभुजी लाल ध्वजा फहराते ||

कलि के दोष न उन्हें दबाते।
सद्गुण आ उनको अपनाते।।
भ्रांत जनों के पंथ निदेशक।
रामभक्ति के तुम उपदेशक।।

निरालम्ब के परम सहारे।
रामचंद्र भी ऋणी तुम्हारे।।
त्राहि पाहि हूं शरण तुम्हारी।
शोक विषाद विपद भयहारी।।

क्षमा करो सब अपराधों को।
पूर्ण करो संचित साधो को।।
बारंबार नमन हे कपिवर।
दूर करो बाधाएं सत्वर।।

बरसाओं सौभाग्य वृष्टि को।
रखो सर्वदा दयादृष्टि को।।
पाठ पचासा का करे , जो प्राणी प्रतिबार।
श्रद्धानंद सफल उसे, करते पवनकुमार।।

पवनपुत्र प्रात: कहे, मध्य दिवस हनुमान।
महावीर सायं कहे , हो निश्चय कल्याण।।

करें कृपा जन जानकर , हरें हृदय की पीर।
बास करे मन में सदा, सिया सहित रघुवीर ।

Hanuman Pachasaa Lyrics Hinglish

Jai Hanuman Daas Raghupati Ke,
Kripaamahodadhi Ath Shubh Gati Ke.
Aanjaneya Atulit Balshaali,
Mahaakaay Ravi Shishya Suchaali.

Shuddh Rahe Aacharan Nirantar,
Rahe Sarvada Shuchi Abhyantar.
Bandhu Sneha Ka Hraas Na Hove,
Maryada Ka Naash Na Hove.

Bairi Ka Santraas Na Hove,
Vyasano Ka Abhyaas Na Hove.
Marutnandan Shankar Anshi,
Baala Brahmachaari Kapi Vanshi.

Raamadoot Ramesht Mahaabal,
Prabal Pratapi Hove Mangal.
Udadhi Kraman Siya Shok Nivaarak,
Mahaaveer Nrip Grah Bhayaharak.

Jai Ashok Van Ke Vidhvanshak,
Sankat Mochan Dukh Ke Bhangak.
Jai Raakshas Dal Ke Sanhaarak,
Raavan Sut Akshay Ke Maarak.

Bhoot Pishaach Na Unhen Sataate,
Mahaaveer Ki Jay Jo Gaate.
Ashubh Swapna Shubh Karanevaale,
Ashakun Ke Phal Haranevaale.

Aripur Abhay Jalaanevaale,
Lakshman Praan Bachaanevaale.
Deh Nirog Rahe Bal Aaye,
Aadhi Vyadhi Mat Kabhi Sataaye.
Peedak Shwaas Sameer Nahin Ho,
Jwar Se Praan Adheer Nahin Ho.

Tan Ya Man Mein Shool Nahin Hove,
Jatharanal Pratikool Nahin Hove.
Raamchandra Ki Vijay Pataka,
Maha Mall Chirayu Ati Baanka.

Laal Langoti Vaale Ki Jay,
Bhakton Ke Rakhwaale Ki Jay.
Hey Hath Yogee Dheer Manasvi,
Raam Bhakt Nishkaam Tapasvi.

Paavan Rahe Vachan Man Kaaya,
Chhale Nahin Bahuroopi Maaya.
Banu Sadaashay Pragnashaali,
Karo Kubhaavon Se Rakhwaali.

Kaam Jayi Ho Kripa Tumhaari,
Maan Samabhaashit Ho Par Naari.
Kumati Kadaapi Nikat Mat Aaye,
Krodh Nahin Pratishodh Badhaaye.

Bal Dhan Ka Abhimaan Nahin Chaaye,
Prabhuta Kabhi Na Mad Bhar Paaye.
Mati Meri Vivek Mat Chhode,
Gyaan Bhakti Se Naata Jode.

Vidya Maan Nahin Aham Badhaaye,
Man Sachchidaanand Ko Paaye.
Tan Sindoor Laganevaale,
Man Siya Raam Basanevaale.

Uradh Mein Vaas Kare Raghuraai,
Vaam Bhag Shobhit Siya Maai.
Sindhu Sahaj Hi Paar Kiya Hai,
Bhakton Ka Uddhaar Kiya Hai.

Pavanaputra Aisi Karunaakar,
Paar Karoon Main Bhi Bhavsaagar.
Kapi Tan Mein Devatva Mila Hai,
Deh Sahit Amartva Mila Hai.

Raamaayan Sun Aanevaale,
Raam Bhajan Mil Gaanevaale.
Preeti Bade Siya Raam Katha Se,
Bheeti Nahin Trayataap Vyatha Se.

Raam Bhakti Ki Tum Paribhaasha,
Poorn Karo Meri Abhilaasha.
Yaad Rahe Nar Deh Mila Hai,
Hari Ka Durlabh Sneha Mila Hai.

Is Tan Se Prabhu Ko Paana Hai,
Punar Na Is Jag Mein Aana Hai.
Dhany Karoon Main Is Jeevan Ko,
Sadaa Upayog Karke Har Kshan Ko.

Maanav Tan Ka Lakshya Safal Ho,
Hari Pad Mein Anuraag Achal Ho.
Dharm Panth Par Charan Atal Ho,
Pratipal Maaruti Ka Sambal Ho.

Kaaljayi Siya Ram Saahaayak,
Sneha Vivash Vash Mein Raghu Naayak.
Sarv Siddhi Sut Sampatti Daayak,
Sadaa Sarvatha Poojan Laayak.

Jo Jan Sharanagat Ho Jaate,
Tribhuji Laal Dhvaja Fahraate.
Kali Ke Dosh Na Unhen Dabaate,
Sadgun Aa Unko Apnaate.

Bhrant Janon Ke Panth Nideshak,
Raam Bhakti Ke Tum Updeshak.
Niraalamb Ke Param Sahaare,
Raamchandra Bhi Rinin Tumhaare.

Traahi Paahi Hoon Sharan Tumhaari,
Shok Vishaad Vipad Bhayahaari.
Kshama Karo Sab Aparaadon Ko,
Poorn Karo Sanchit Saadho Ko.

Baranbaari Naman He Kapivar,
Door Karo Baadhaayein Sattvar.
Barsaao Saubhaagya Vrishti Ko,
Rakho Sarvada Dayaadrushti Ko.

Paath Pachasa Ka Kare, Jo Praani Pratibaar,
Shraddhaanand Safal Use, Karte Pavan Kumar.
Pavanaputra Praatah Kahe,
Madhya Divas Hanuman,
Mahaaveer Saayam Kahe, Ho Nishchay Kalyaan.

Karein Kripa Jan Jaan Kar, Haren Hriday Ki Peera, Baas Kare Mann Mein Sadaa, Siya Sahit Raghuvira.

हनुमान पचसा PDF

Hanuman Pachasaa PDF
PDF NameHanuman Pachsasaa PDF
No. of Pages8
PDF Size1.01 MB
LanguageHindi
PDF CategoryHanuman Chalisa
Last UpdatedSeptember 5, 2023
Source / Creditsकवि मान
Uploaded Byhanumanchalisapdf.co.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *